DBMS kya hai DBMS architecture useful information

DBMS kya hai DBMS architecture useful information

Hello दोस्तों monkeyweb के इस नये blog DBMS kya hai DBMS architecture useful information में आपका स्वागत है तो चलिये आज के इस informative blog में जनते है DBMS के बारे में अगर आप भी computer field से belong करते है तो आपने इसके बारे में जरुर से सुना ही होगा तो

What is DBMS in Hindi क्या ये कोई data storage या management method है तो आप बिलकुल भी परेशान ना हो अगर आपको Data के बारे में थोड़ी सी भी जानकारी है तो आप बहुत आसनि से जान सकते है की DBMS क्या है और ये कैसे काम करता है तो DBMS से related सभी तरह की Query को दूर करने के लिये आप इस blog What is DBMS in Hindi को पूरा पढ़े

DBMS ka full form kya hai

DBMS का full फॉर्म होता है (Database Management System) DBMS में हमको ये सिखने को मिलता है की हम अपने Data या इनफार्मेशन को किस तरह manipulate करके अपने use में ले सकते है

What is DBMS in Hindi

DBMS (database management system ) यह एक प्रकार का software होता है | जो हमारे डाटा या किसी उपयोगी इनफार्मेशन को store करने के लिये space provide करता है यह बहुत ही useful technique होती है जहा हम किसी भी तरह का Data आसनी से स्टोर कर सकते है

यहाँ पर हमको बहुत से helpful टूल्स के साथ एक simple interface provide किया जाता है जिससे हमको अपने data को manage करने के लिये किसी भी प्रकार की complexity नहीं होती है

DBMS में अलग अलग rows और column होता है जिसमे हम data को Separate करके रखते है जैसे अगर हमको किसी तरह कोई result prepare करना है जिसमे सभी Students के data को अलग रखकर manage करना हो तो कुछ इसी तरह  हम database को use कर सकते है

DBMS में हमको अलग आलग तरह की Tables provide होती है जिसमे हम अलग अलग तरह के Data को insert कर सकते है और इतना ही नहीं हम और भी Operations को भी आसनी से perform कर सकते है जैसे –

Create-To create a Table in a database
Insert To insert your data into the database(Table)
Drop To delete your data from database(Table)
SelectTo select your data in a database(Table)

Dbms end-user or developer के बीच में एक connection create करने का काम करता है dbms की सबसे अच्छी बात यह है की इसका use करके किसी भी तरह के Complex data को आसनी से organize किया जा सकता है और अपने use में लाया जा सकता है

Components of DBMS in Hindi

DBMS की methodology को समझने के लिये हमको इसके components के बारे में भी जानना जरुरी होता है क्युकी जब आप किसी system के सभी basic Components के बारे में जानते है तो उससे आपको उस system की working को जानने में help होती है तो आईये जनते है Components of DBMS in Hindi के बारे में

Hardware –

Hardware तो DBMS में जब हम किसी hardware की बात करते है तो सबसे पहले हम उन सभी बेसिक मेमोरी की बात करते है Registers , Hard Disk , I/O chanel जिसका use करके हम अपने data को स्टोर करने का काम करते है और इसिलए DBMS के लिये भी ये बहुत प्रभावी साबित होते है

database को manage करने के लिये जब हम MySQL , Oracle जैसे software का use करते है तो इस platforms को सही तरह से काम करे

इसलिये हमारा computer RAM , ROM ,Hard Disk आदि का use करता है और इसी वजह से ये सभी computer components DBMS hardware components का हिस्सा बन जाते है

Software –

DBMS का ये component बहुत अधिक महवपूर्ण होता है क्युकी इसी का उपयोग करके हम DBMS से interact हो पाते है और अपने data को maintain कर पाते है

किसी भी system पर work करने के लिये हमको एक GUI की जरुरत होती ही है जहा से हमको सभी तरह की Connectivity provide होती है उसी तरह DBMS software की help से हम database में Update , Drop ,Insert , Create आदि अलग अलग command का प्रयोग कर पाते है

DBMS में हम बहुत से software का use करते है जैसे –

  • Oracle
  • MySQL
  • Microsoft Access
  • SQLlite , Postgree
  • IBM DB2
  • ,FoxPro

Data 

DBMS का पूरा concept ही इसी data के लिये prepare किया गया है ताकि हमको एक suitable place मिल सके जहा से हम अपने data को आसनी से utilize कर सके

database को maintain करने के लिये हम DBMS का use करते है जो सभी तरह के Metadata को स्टोर करने का काम करता है metadata (A data of your data ) यानि यह एक तरह का अलग फॉर्म होता है data का जो dbms में स्टोर करता है

metadata (A data of your data ) यानि यह एक तरह का अलग फॉर्म होता है data का जो dbms में स्टोर करता है

example : अगर हम कोई table create करते है और table में अलग अलग तरह के data को insert करते है like


your name –
your Gender –
your age –
your email –

तो ये सभी data एक table के अन्दर स्टोर किये जाते है और इस बात को हम जानते है की table भी एक तरह का data ही होता हैयानि जो भी इनफार्मेशन हमने इस table के अन्दर insert की है वो सभी एक तरह का metadata ही है

Database language

हम सभी को किसी न किसी तरह की Communication build up करने के लिये एक language की requirment होती ही है ताकि हम सामने वाले से intract कर सके

इसी प्रकार DBMS की भी अपनी एक language है जिसकी help से हम इसको manage करते है ये बहुत ही simple language होती है इसमें हमको अलग- अलग टास्क को perform करने के लिये command होते है

एक user / programmer इसका use करके database में आसनि से access कर सकता है इसमें वह database में Tables , fetch ,update create , delete आदि operation perform कर सकता है

Advantages of DBMS in Hindi

Security

किसी भी तरह के data को secure रखना एक बड़ा challenge रहता है क्युकी data thieft काफी जादा बढ़ गया है और ऐसे में database में privacy की बात करे तो DBMS में आपको अपने data के लिये privacy provide की जाती है यहाँ पर एक Authorized user ही database को access कर सकता है

यानि की अगर आप एक Admin है अपने database को इस तरह manage कर सकते है की आप ये decide कर सकते है की अपने database में user किस तरह से data को access कर सकता है

example :
आप बहुत से Social media platform पर अपन account बनाया होग और उन सभी में आप केवल अपना अकाउंट ही maintain कर सकते है यहाँ आपको authority नहीं मिलती की आप किसी दुसरे user के account को access कर पाए ये सब DBMS से ही possible हो पाया है

Data Sharing :

DBMS में आप न केवल अपने data को create कर सकते है बल्कि उसको किसी दुसरे authorized user के साथ शेयर भी सकते है ताकि वह user भी इस database में available data को सही तरह utilize कर सके

DBMS में आपको बहुत सारे authorization access provide किये जाते है जिससे हम किसी particular user को access दे सकते है इसके साथ ही बहुत से रिमोट user भी DBMS को access कर सकते है

Data (Recovery/Backup)

data को manage करते time सबसे important term होता है उस data का समय समय पर backup create करके रखना क्युकी अगर अपने अपने data का proper backup नहीं लिया है तो data crash होने पर आपको काफी loss हो सकता है

DBMS में आपको बहुत अच्छी facility दी जाती है यहाँ आपको अपने data का मैन्युअल backup create करने की कोई requirement नहीं होती है

DBMS सभी data का Automatically backup copy generate कर देता है ताकि data crash होने पर आपको समस्याओ का सामना न करना पड़े

Easy to Use

DBMS हमको एक बहुत ही simple interface provide करता है जहा हमको data का clear और logical view देखने को मिलता है इसको की beginner भी आसानी से उपयोग कर सकता है

DBMS architecture in Hindi

DBMS की design पूरी तरह से उसके Architecture पर निर्भर करती है एक सामान्य user/server का प्रयोग बड़ी संख्या में PC , Workstations के नेटवर्क को कनेक्ट करने के लिये किया जाता है

DBMS के architecture को single और Multiple दोनों ही forms में देखा जा सकता है लेकिन logically ये तीन प्रकार से define किये जाते है और इनका अलग अलग field में उपयोग किया जाता है ___

DBMS Tier 1 architecture in Hindi

DBMSके इस architecture में हमारा user/client database के साथ directly कनेक्ट हो सकता है यानि user बिना किसी रुकावट के database में बदलाव कर सकता है

इसके साथ ही user जो भी बदलाव करता है वह सीधा उसके database में होता है यानि हमको अलग से किसी tool को use नही करना होता है DBMS maintain करने के लिये

DBMS का 1 Tier architecture का use मुख्यता लोकल application को develop करने के लिये किया जाता है जहा प्रोग्रामर/यूजर directly database के साथ कम्यूनिकेट कर सकता है

DBMS Tier 2 architecture in Hindi

इस तरह की architecture basic client – server की तरह ही होता है जिसमे client side application को stabilized किया जाता है database से connection built करने के लिये

2- tier architecture में हम database से कम्यूनिकेट करने के लिये client साइड से application का use करते है जिससे हम directly server से कनेक्ट हो सकते है

Tier 2 architecture लिये अलग – अलग API’s का use किया जाता है जैसे – ODBC , JDBC

DBMS Tier 3 architecture in Hindi

इसमें server और client के बीच में एक लेयर होती है जिसको application लेयर कहते है यानि इस तरह के architecture में client किसी server से directly कम्यूनिकेट नहीं कर सकता है

यहाँ पर server के साथ किसी भी तरह की further communication के लिये client साइड की application को application server से interact करना पड़ता है तभी हम database को access कर सकते है

Final Word –

मै आशा करता हु की आपको मेरा ये DBMS kya hai DBMS architecture useful information क्या है blog post informative लगा होगा इसी प्रकार के और इसको आप अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे ताकि जादा से जादा मेरे भाई इस knowledge को gain कर सके – Jai Hind

Post ADD ____________

Abhinav Srivastav

Hello dosto mera nam abhinav Srivastava hai aur abhi ek Student hu maine blogging 2019 me start kiya tha mughe blogging karna psand hai taki mai ap sabhi ko tecnology se jod saku

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *